ये प्रेरणादायक कहानियां आपकी सोच बदल देंगी – 2 best hindi motivational stories

Two best hindi motivational stories- इस दुनिया में हर कोई अपने घमंड को बढ़ावा देने के लिए अक्सर दूसरे को छोटा दिखाने की कोशिश करता रहता है। हर किसी को ऐसा लगता है की मे ही दूसरे से बड़ा हूँ, पैसे में, रुतबे मे, मेहनत में, समाज में, इज्जत में ना जाने ऐसी कितनी ही चीज़ों में। आज की दुनिया में कोई किसी को छोटा नहीं समझता, हर कोई अपनी नजर में खुद बड़ा ही मानता है।

लेकिन बात ये है की अगर कोई छोटा है नहीं तो आखिर हम सब में बड़ा है कौन। आज की पहली शार्ट मोटिवेशनल कहानी आपको इसी बात के बारे में बताएगा की इस संसार में बड़ा कौन है और साथ ही आपको ये प्रेरणा भी देगी की वो क्या चीज़ें हैं जिनसे कोई व्यक्ति सच में बड़ा बनता है। तो पड़ते हैं आज की दो motivational kahaniya in hindi.

1- कौन बड़ा कौन छोटा – hindi motivational stories

एक बार की बात है, एक राजा का दरबार लगा हुवा था। उस दरबार में बड़े बड़े मंत्री आये हुवे थे। बातों बातों में उन मंत्रियों में बहस होने लगी। उन लोगो में बहस इस बात को लेकर होने लगी की उन सब में बड़ा कौन है। कोई कहने लगा मेरे पास बहुत धन है तो में बड़ा हूँ, किसी ने कहा में सबसे ज्यादा बुद्धिमान तो में बड़ा हूँ, इस बहस में उस राज्य का राजा भी शामिल हो गया, राजा बोला की, “ये पूरा राज्य तो मेरा है तो यहां में सबसे बड़ा हूँ।”

motivational story in hindi, motivational story for students in hindi,प्रेरणादायक हिंदी कहानियां,मोटिवेशनल कहानियां इन हिंदी,
मोटिवेशनल कहानियां पढ़ने के लिए
best hindi motivational story

तभी एक मंत्री बोला, “सेना और साम्राज्य के बिना राजा की कोई वैल्यू नहीं होती, तो राजा बड़ा कैसे।”

दरबार में हर कोई एक दूसरे को छोटा साबित करने में लगा हुवा था। बहस बढ़ती जा रहा थी और राजा को कुछ समझ नहीं आ रहा था की क्या करा जाये। [Also Read- One Sided Love Motivational Story]

थोड़ा सोचने के बाद राजा बोला, “की इस राज्य से बाहर जंगल में एक ऋषि रहते हैं, जो बहुत ज्ञानी हैं, क्यों ना हम सब मिलकर उनके पास जाएँ और उनसे पूछें की इस संसार में सबसे बड़ा है कौन।” 

राजा की बात सबको सही लगी और वो सब उस ऋषि के पास गए, और जंगल में पहुंचकर उस राजा ने ये सारी बात उन ऋषि को बताई।

पूरी बात सुनने के बाद वो ऋषि बोले, “आप सभी समझदार लोग हैं, मैं जो बात आपको बताऊंगा उसे जानने के बाद आप में से कोई भी दुबारा मुझसे मिलने ना आये।”

वो सब मान गए और बोला की अब आप हमे बताये की हम सब मे और इस पुरे संसार में बड़ा कौन और छोटा कौन।

वो ऋषि बोले- इस संसार में “बड़ा वही, जो दूसरों को छोटा ना समझे”, ये कहकर वो ऋषि अपनी तपस्या में लीन हो गए। 

प्रेरणादायक सीख जो हमे इस कहानी से मिलती है-

ये छोटी सी hindi motivational stories हमे बहुत बड़ी बात सिखाती है की इस संसार बड़ा वही जो किसी को खुद से छोटा ना समझे। हम सब में एक बहुत बुरी आदत होती है की हम खुद को दूसरों से compare करते हैं।

हम हर बात में दूसरों को ये दिखाना चाहते हैं की हम life में कितने आगे पहुंच गए है हम दुसरों को अक्सर छोटा दिखने की कोशिश में लगे रहते हैं। हम ये बात भूल जाते हैं की हम सभी के ऊपर कोई ना कोई होता है जिसके सामने हम भी छोटे होते हैं.

जैसे एक कंपनी में 50 हज़ार सैलरी वाले को लगता है की एक 25 हज़ार कमाने वाला employee छोटा है, उसके सामने उस employee की कोई value नहीं है, लेकिन वो ये बात भूल जाता है की उसके ऊपर भी कोई है जो 75 हज़ार रुपए कमाता है,

और उसके सामने उसकी खुद की वैल्यू कुछ नहीं है। अगर life में आप सच में बड़ा बनना चाहते हैं तो दूसरों को छोटा नहीं बल्कि बराबर का समझिये। इससे आप भी खुश रहेंगे और दूसरों के साथ बने आपके रिश्ते भी अच्छे रहेंगे।

Also Read- खूबसूरती का घमंड Short Story, इच्छाओं का कोई अंत नहीं , Ratan Tata Success Story

2- कर्म और दौलत – Hindi motivational story on karma

एक बार कर्म और दौलत ने सोचा चलो देखते हैं की हम दोनों में से कौन ज्यादा बड़ा है, खुद को बड़ा साबित करने के लिए दौलत ने एक ग़रीब आदमी को पैसों से भरी थैली दे दी, वो आदमी घर पहुंचा और उसने उस थैली को दीवार में लटका दिया। और सोचने ने लगा की अब कल से काम करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

motivational story in hindi,motivational story for students in hindi,प्रेरणादायक हिंदी कहानियां,मोटिवेशनल कहानियां इन हिंदी,
मोटिवेशनल कहानियां पढ़ने के लिए
motivational story on karma

लेकिन आधी रात को उसका पडोसी आया और पैसों से भरी थैली को चुरा ले गया। अगली सुबह वो आदमी दुखी होकर अपने थैले को इधर उधर ढूंढ़ने लगा। और उदास होकर वो अपनी मज़दूरी करने चला गया। दौलत ने फिर एक कोशिश करी और इस बार उस आदमी को एक हीरा दिया, उस आदमी ने वो हीरा अपने कुर्ते की जेब में डाल लिया। 

थोड़ा दूर जाकर वो आदमी नदी से पानी पीने लगा तो हीरा उसकी जेब से निकल कर नदी में गिर गया। वो आदमी फिर उदास हो गया और घर चला गया। अगले दिन कर्म ने कोशिश की और उस आदमी को 2 पैसे दिए, दिन भर मज़दूरी करके वो बहुत भूखा था तो वो बाज़ार गया और उन दो पैसों से उसने रात के खाने के लिए मछली खरीद ली और घर आकर उसने जब वो मछली काटी तो उसमे से वो खोया हुवा हीरा निकल आया. [Also Readकहाँ मिलेंगी खुशियां Motivational Story]

 वो आदमी खुशी से चिल्लाने लगा कि मिल गया, मिल गया, पडोसी ने सुना और सोचा कि इसे पता चल गया होगा कि पैसों से भरी थैली मेरे पास है, और डर की वजह से उसने वो थैली उस आदमी के घर फैक दी। उस आदमी को थैली और हीरा दोनों ही मिल गए और इस तरह कर्म जीत गया और दौलत हार गई।

जिंदगी की सीख जो हमे इस कहानी से मिलती है-

ये शार्ट मोटिवेशन कहानी हमे सिखाती है की हमारे कर्म ही हमारी जिंदगी बनाते हैं, दौलत तो आती जाती रहती है लेकिन कर्म ही हैं जो हमेशा हमारे साथ रहते हैं। अच्छे कर्म इंसान की जिंदगी को अच्छा बनाते हैं और उसी तरह बुरे कर्म हमे और समाज दोनों को ही बुरा बनाते हैं। दौलत आपका साथ भले ही हर मुसीबत में दे लेकिन वो आपको life में अकेला भी कर देगी।

अगर आपके कर्म अच्छे होंगे तो हर कोई आपसे जुड़ा रहेगा लेकिन अगर आप सिर्फ दौलत को ज्यादा एहमियत तो देंगे तो लोग सिर्फ आपसे अपने मतलब के लिए जुड़ेंगे और उस वक़्त वो आपका साथ छोड़ देंगे जिस वक़्त आपको दौलत की नहीं बल्कि किसी के support की जरूरत होगी। इसलिए पैसे कमाने के साथ साथ अपने रिश्तों और अपने कर्मों को कमाना ना भूलिए। 

दोस्तों आपको ये two best hindi motivational stories कैसी लगी हमे comment section में जरूर बताएं। ऐसी ही और भी motivational kahaniyan in hindi पड़ने के लिए हमारे साथ जुड़ें रहें। इन दो प्रेरणादायक कहानियों को share करना ना भूलें।

Leave a Comment