जिंदगी बदलने वाली Top 5 प्रेरणादायक हिंदी कहानियां – short hindi motivational stories

आज की इस पोस्ट में हम आपके सोच और जिंदगी को बदल कर रख देने वाली पांच short hindi motivational stories लेकर आये हैं। बेशक ये कहानियां छोटी हैं मगर इनसे मिलने वाली motivation बहुत बड़ी है।

short motivational stories पड़ने का सबसे बड़ा फायदा ये है की ये motivational stories हमे जल्दी याद हो जाती हैं और इनके पीछे की प्रेरणादायक सीख हम जल्दी समझ भी जाते हैं। आज ये शार्ट मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी भी कुछ ऐसी ही हैं। तो पड़ते हैं की आज की टॉप 5 short hindi motivational stories:

1- तुम्हारा Talent कोई नहीं चुरा सकता – short motivational kahani

जीवन बदलने वाली कहानी,विद्यार्थी के लिए प्रेरणादायक कहानी,प्रेरक कहानियां हिंदी,प्रेरणादायक हिंदी कहानियां,short hindi motivational stories,motivational kahani hindi mein
motivational kahani

एक बार एक चिड़िया ने मधुमक्खी से पूछा कि तुम इतनी मेहनत से शहद बनाती हो और इंसान आकर उसे चुरा ले जाता है, तो तुम्हें बुरा नहीं लगता। तो इस पर मधुमक्खी ने बहुत ही सुंदर जवाब दिया:- इंसान मेरा शहद तो चुरा सकता है मग़र वो कभी मेरे शहद बनाने की कला नहीं चुरा सकता। 

सीख जो हमे इस शार्ट स्टोरी से मिलती है:-

ये छोटी सी short hindi motivational story हमे सिखाती है की कोई भले कितना भी स्मार्ट क्यों ना हो वो सिर्फ आपके काम को कॉपी कर सकता है लेकिन कभी आपके टेलेंट को चुरा नहीं सकता। इसलिए किसी से धोखा खाने या नुकसान उठाने के बाद हार मत मानिए अपने हुनर के बल पर फिर से कोशिश कीजिए। और ये बात हमेशा याद रखिये की दूसरों को कॉपी करने से पहले एक बार खुद से ये जरूर पूछें की क्या आप उस काम में सच में बेहतर हैं।

क्यों की कई बार ऐसा होता है की हम दूसरों को कॉपी करने के चक्कर में अपना खुद का टैलेंट बर्बाद कर देते हैं और फिर ना ही हम वो रह पाते हैं जो हम असल में होते हैं और ना ही उस तरह का बन पाते हैं जिसे हमने अपना टैलेंट समझ के कॉपी किया होता है। [Also Read- बेमतलब का दिखावा क्यूँ]

2- तुम्हें किससे प्यार है – short hindi motivational stories

जीवन बदलने वाली कहानी,विद्यार्थी के लिए प्रेरणादायक कहानी,प्रेरक कहानियां हिंदी,प्रेरणादायक हिंदी कहानियां,short hindi motivational stories,motivational kahani hindi mein
prernadayak story in hindi

एक बार एक व्यक्ति अपनी नयी कार को बड़े प्यार से पॉलिश करके उसे चमका रहा था। तभी उसकी 4 साल की बेटी पत्थर से कार पर कुछ लिखने लगी। कार पर खरोंच देखकर पिता को इतना गुस्सा आया कि उसने बेटी के हाथ में जोर से डंडा मार दिया जिसकी वजह से बच्ची की ऊँगली टूट गयी। हॉस्पिटल से आने के बाद बेटी पूछती है, “डैड मेरी उंगलियां कब ठीक होंगी?

गलती पर पछता रहा पिता कोई जवाब नहीं दे पाता। वह वापस जाता है और कार पर जोर जोर से मारकर अपना गुस्सा निकालता है। कुछ देर बाद उसकी नजर उस खरोंच पर पड़ती है जो उसकी बेटी ने लगाया था और जिस पर लिखा था- आई लव यू डैड. [Also Read- कहाँ मिलेंगी खुशियां Motivational Story]

प्रेरणादायक सीख जो हमे इस कहानी से मिलती है:

ये कहानी हमे सिखाती है की गुस्से और प्यार की कोई सीमा नहीं होती। याद रखें कि चीजें इस्तेमाल के लिए होती हैं और इंसान प्यार करने के लिए। लेकिन आज हम लोगों की सोच इतनी छोटी हो गयी है की हम चीजों से प्यार और लोगों को इस्तेमाल करने लगे हैं। याद रखें टूटी हुई चीज़ को फिर से जोड़ा जा सकता है लेकिन टूटे हुवे रिश्ते बहुत मुश्किल से जुड़ते हैं।

3- एक पिता और चार बेटों की कहानी – Short Motivational Moral Story 

जीवन बदलने वाली कहानी,विद्यार्थी के लिए प्रेरणादायक कहानी,प्रेरक कहानियां हिंदी,प्रेरणादायक हिंदी कहानियां,short hindi motivational stories,motivational kahani hindi mein
short motivational stories in hindi

रामधर के चार बेटे थे। चारो का विवाह हो चुका था। रामधर के पास बहुत सी जमीन-जायदाद थी तो जायदाद का बटवारे करने के लिए चारो भाइयों ने पंचायत बुलाई। 

सरपंच बोला : रामधर जी आपके चारो बेटे चाहते है कि आपके जायदाद के चार हिस्से कर दिए जाए। और आप तीन तीन महीने हर एक बेटे के पास रहेंगे। क्या आप अपने बच्चों की इन बातो से सहमत हैं…?

तो इस पर बड़ा बेटा बोला :- अरे सरपंच जी इसमे पिताजी से क्या पूछना। हम चारो भाई उन्हें तीन-तीन महिने एक साथ रखने के लिए तैयार है। बस अब आप इस जायदाद का बराबर बंटवारा हम चारों में कर दीजिये।

रामधर ये सब सुन रहे थे और वो अचानक उठे और बोले – सुनो सरपंच….ये सब कुछ मेरा है तो फैसला तुम नही मैं करूंगा। और मेरा फैसला ये है कि, ‘इन चारो को मै बारी बारी से अपने घर में तीन-तीन महीने साथ रखूंगा। बांकी का समय ये कैसे गुजारेंगे ये अपनी व्यवस्था खुद कर ले, क्योंकि Ye जायदाद मेरी है।’

पिता का फैसला सुन पंचायत और चारो बेटो का मुह खुला का खुला रह गया! [Also Read- The Comfort Zone – Motivational Story]

इस कहानी से मिलने वाली प्रेरणादायक सीख:

ये छोटी सी मोटिवेशनल कहानी हमे सिखाती है की फैसला औलाद को नहीं हमेशा माँ बाप को करना चाहिए। माँ बाप, हर चीज़ अपने बच्चों की खुशियों के लिए करते हैं लेकिन आज की पीड़ी कुछ ऐसी हो चुकी है जो पैसों और जायदाद के चक्कर में अपने माँ बाप को ही छोड़ देते हैं।

ऐसी औलाद जो जायदाद और पैसों के लिए माँ बाप का ही बंटवारा करदे वो औलाद सिर्फ एक बोझ होती है। माँ बाप हमेशा ये सोचते हैं की हमारी औलाद हमारे साथ रहे, लेकिन उनकी औलाद ये सोचती है वो अपने परिवार के साथ अलग रहे। जो माँ बाप सारी जिंदगी हमारे लिए कुछ करने में गुजार देते हैं और उन्ही माँ बाप को खुद से अलग करने सोचते हैं।

दोस्तों पैसा या जायदाद कभी भी माँ बाप से बड़ी नहीं होती इसलिए अपने पेरेंट्स के साथ रहें। हमेशा कोशिश ये करें की कभी ऐसी situation ना आये की आपको अपने माँ बाप का बंटवारा करना पड़े। मिलकर रहना ही परिवार की ताकत होती है और इस ताकत को कभी कमजोर ना होने दें। [Also Read- कुछ Chance Life में बार बार नहीं मिलते]

4- ऐसी अमीरी किस काम की- प्रेरणादायक कहानी छोटी सी

एक बार एक चूहे ने हीरा निगल लिया और उस हीरे के मालिक ने उस चूहे को देख लिया और उसे मारने के लिये एक शिकारी को ठेका दे दिया। जब शिकारी चूहे को मारने पहुँचा तो वहाँ बहुत सारे चूहे झुण्ड बनाकर एक दूसरे पर चढ़े हुए थे,

मगर उन सब में एक चूहा सबसे अलग बैठा था। शिकारी ने सीधा उस चूहे को पकड़ा और उस हीरे के मालिक के पास पंहुचा। उस हीरे के मालिक ने शिकारी से पूछा, उतने सारे चूहों में से इसी चूहे ने मेरा हीरा निगला है यह तुम्हें केसे पता लगा ?

शिकारी ने जवाब दिया- सेठ जी ये तो बहुत ही आसान था, जब कोई मूर्ख धनवान बन जाता है तो वो अपनों से भी मेल-मिलाप छोड़ देता है। [Also Read- Value of Time (Motivational Story)]

दुनिया में ऐसे बहुत से लोग होते हैं जो थोड़ा सा पैसा कमा लेने के बाद खुद को दूसरों से बहुत बढ़ा समझने लगते हैं और अपने दोस्तों, रिश्तेदारों से भी दूरी बना लेते हैं और ये समझने लगते हैं की जिंदगी में ये पैसा ही उनके काम आएगा और कोई नहीं। इस दुनिया में अमीर तो हर कोई बनना चाहता है पर सही मायनो में अमीर वही होता है जो हर किसी को साथ लेकर चलता है। जिसे अपनी अमीरी पर घमंड नहीं बल्कि अपने रिश्तों पर भरोसा होता है।

5- कोशिश करना कभी ना छोड़ें- short hindi story on hard work

ये छोटी सी कहानी है हॉलीवुड एक्टर Sylvester Stallone की। हम सभी उनकी सफलता से अच्छे से परिचित हैं लेकिन उस सफलता के पीछे जो struggle उन्होंने किया उसके बारे में आप इस छोटी सी कहानी के जरिये जानेगे।

सिल्वेस्टर स्टैलोन को अपने filmi career की शुरवात से ही काफी struggle करना पड़ा और उनकी हालत ऐसी हो गयी की उनके पास अपने परिवार को खिलाने पिलाने तक के पैसे नहीं बचे। अपने खर्चों को पूरे करने के लिए उन्हें अपनी wife की ज्वेलरी तक बेचनी पड़ गयी और अपना कुत्ता भी उह्नोने 25 डॉलर में बेच दिया था। [Also Read- KGF Star Yash की सफलता की कहानी]

इतना सब होने के बाद भी उन्होंने खुद को एक चांस दिया और अपने लिए एक फिल्म की कहानी लिखी जिसका नाम था ‘रॉकी’। इस फिल्म की कहानी में कई इन्वेस्टर और प्रोड्यूसर ने स्टेलोन को हीरो का रोल देने से मना कर दिया पर इन्होंने हार नहीं मानी और ऐसे लोगों को ढूंढा जो इनकी मदद करे.

और 1976 में फिल्म रॉकी जब release हुई तो पूरी दुनिया में हिट हो गयी और स्टेलोन एक सुपर स्टार बन गए। अपनी मेहनत, कोशिश, लगन और कभी हार ना मानने वाले जज्बे के दम पर स्टेलोन पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल बन गए।

दोस्तों, आई होप आपको प्रेरणा देने वाली टॉप 5 short hindi motivational stories पसंद आयी हो और साथ ही इन short stories से आपको कुछ अच्छा सीखने को मिला को। ऐसे और भी hindi prernadayak kahaniyan पड़ने के लिए हमारे साथ जुड़ें रहें। इन कहानियों को अपने दोस्तों के साथ share जरूर करें।

Leave a Comment