रविंद्र जडेजा की जीवन कहानी | Ravindra Jadeja Biography in Hindi

Ravindra Jadeja Biography in Hindi – इंडियन क्रिकेट टीम में वैसे तो कई खिलाड़ी हैं जिन्हें उनकी batting या फिर सिर्फ bowling के लिए जाना जाता है, लेकिन भारतीय क्रिकेट के इतिहास में ऐसे बहुत कम all rounder हैं जो bowling और batting दोनों में काफी सफल रहे हों। अगर आज के समय की बात करें तो इंडिया के सबसे बेहतरीन all rounder हैं रविंद्र जडेजा।

दोस्तों जडेजा इसलिए सबसे best all rounder हैं क्यों की वो cricket के तीनो format में बहुत अच्छी तरह से fit हो जाते हैं। Bowling और batting के साथ साथ उनकी fielding भी काफी जबरदस्त है। बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी 2023 के पहले के दो test matches में उनकी शानदार bowling और batting की बदौलत वो ICC test ranking में सबसे ज्यादा points के साथ allrounder की list में top पर बने हुवे हैं।

आज की Ravindra Jadeja biography in hindi के जरिये हम आपको उनके जीवन और cricket की journey के बारे में बताएंगी। रविंदर जडेजा को उनकी class और performance की वजह से उन्हें “Sir Ravindra Jadeja” भी कहा जाता है। रविंद्र जडेजा की जीवन कहानी आपको बहुत प्रभावित करेगी।

Ravindra Jadeja life story in hindi, रविंद्र जडेजा की जीवन कहानी, रविंद्र जडेजा की बायोग्राफी,

रविंद्र जडेजा बायो (Jadeja Bio)

Real Name- Ravindrasinh Anirudhsinh Jadeja
Date of Birth- 6 December 1988
Age- 34
Place of Birth- Jamnagar, Gujrat, India.

Occupation- Professional Indian Cricketer
Education- Graduated from Gujarat university (Not Clear)
Father’s Name- Anirudhsinh Jadeja
Mother’s Name- Lata Jadeja

Marriage- 17 April, 2016
Wife’s Name- Rivaba Jadeja
Children- Nidhyana Jadeja (Daughter, born on 2017)

रविंद्र जडेजा का शुरुवाती जीवन

रविन्द्र जडेजा का जन्म 6 दिसंबर 1988 को नवगाम घेड, जामनगर जिले, गुजरात, भारत में हुआ था। उनका जन्म एक गुजराती राजपूत परिवार में हुआ था और उनके पिता अनिरुद्ध एक निजी सुरक्षा एजेंसी में चौकीदार के रूप में काम करते थे। हालाँकि उनके पिता चाहते थे कि उनका बेटा सेना में अधिकारी बनें, और देश की सेवा करे, लेकिन रविंद्र जडेजा की छोटी उम्र से ही क्रिकेट में काफी दिलचस्पी थी। बचपन से ही वो अपने पिता से काफी डरा करते थे। उनकी मां लता का 2005 में हुई एक दुर्घटना में निधन हो गया, और उनकी मृत्यु की वजह से जडेजा ने लगभग क्रिकेट खेलना छोड़ ही दिया था।

Ravindra Jadeja Career-

घरेलु क्रिकेट करियर –

16 साल की उम्र में, जडेजा ने 2005 में भारत की अंडर -19 क्रिकेट टीम से अपने क्रिकेट करियर की शुरुवात करी। उन्हें श्रीलंका में होने वाली 2006 U/19 क्रिकेट विश्व कप में भारतीय टीम के लिए चुना गया. दो साल बाद, 2008 U/19 क्रिकेट विश्व कप में वो भारतीय टीम के उप-कप्तान थे। टूर्नामेंट के दौरान, उन्होंने bowling में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और 6 मैचों में 13 की औसत से 10 विकेट लिए। 2008 का U19 वर्ल्ड कप इंडियन क्रिकेट टीम ने जीता।

रविन्द्र जडेजा प्रथम श्रेणी Cricket Career –

साल 2006-07 में, जडेजा ने रणजी ट्रॉफी में सौराष्ट्र के लिए और Duleep Trophy में West Zone के लिए खेलते हुए प्रथम श्रेणी में पदार्पण किया। 2012 में, वह डॉन ब्रैडमैन, ब्रायन लारा, बिल पोंसफोर्ड, वैली हैमंड, डब्ल्यूजी ग्रेस, ग्रीम हिक और माइक हसी के बाद, प्रथम श्रेणी क्रिकेट में तीन तिहरे शतक बनाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी और इतिहास के आठवें खिलाड़ी बने।

उनका पहला तिहरा शतक नवंबर 2011 में उड़ीसा के खिलाफ आया, जहां उन्होंने 375 गेंदों पर 314 रन बनाए। उनका दूसरा तिहरा सतक नवंबर 2012 में गुजरात के मारा, जहां वह 303 रनों पर नाबाद रहे, और उनका तीसरा तिहरा सतक दिसंबर 2012 में रेलवे के खिलाफ था, जिसमें उन्होंने 501 गेंदों में 331 रन बनाए। उन्होंने 23 साल की छोटी उम्र में यह मुकाम हासिल किया।

Ravindra Jadeja International Cricket Career –

जडेजा 2008-09 रणजी ट्रॉफी में अपने असाधारण हरफनमौला प्रदर्शन के बाद इंडियन क्रिकेट टीम के चयनकर्ताओं की नजर में आये, जहां उन्होंने 739 रन बनाए और 42 विकेट लिए थे। बाद में उन्हें 2009 में श्रीलंका के खिलाफ ODI Series के लिए चुना गया, जहां उन्होंने Series के अंतिम मैच में अपना International Cricket debut किया और नाबाद 60 रन बनाए। हालांकि वो मैच भारत हार गया।

अगस्त 2013 में, ICC ने जडेजा को एकदिवसीय क्रिकेट में शीर्ष गेंदबाज के रूप में स्थान दिया, जिससे वह 1996 में अनिल कुंबले के बाद से इस स्थान को हांसिल करने वाले पहले भारतीय गेंदबाज बन गए। वह कपिल देव, मनिंदर सिंह और कुंबले के साथ शीर्ष पर पहुंचने वाले एकमात्र भारतीय गेंदबाज बन गए।

रविंद्र जडेजा को 13 दिसंबर, 2012 को England के साथ होने वाली test series के लिए भारतीय team में शामिल कर लिया गया। 20 जुलाई 2014 को, जडेजा ने अपना पहला टेस्ट अर्धशतक बनाकर इंग्लैंड के खिलाफ भारत के लिए मैच बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने केवल 57 गेंदों में 68 रन बनाए, भुवनेश्वर कुमार के साथ 99 रनों की साझेदारी की.

कंधे की चोट से पीड़ित होने के बावजूद, जडेजा को ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में 2015 क्रिकेट विश्व कप के लिए चुना गया। उन्होंने आठ मैचों में नौ विकेट लिए लेकिन पांच पारियों में केवल 57 रन ही बना सके। दुर्भाग्य से, भारत सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया से हार गया।

अगस्त 2017 में, रविचंद्रन अश्विन के साथ, जडेजा ने ICC टेस्ट रैंकिंग में संयुक्त रूप से नंबर 1 रैंकिंग रखने वाले स्पिनरों की पहली जोड़ी बनकर इतिहास रच दिया। वह 5 अगस्त 2017 को केवल 32 मैचों में उपलब्धि हासिल करके टेस्ट क्रिकेट में 150 विकेट तक पहुंचने वाले सबसे तेज बाएं हाथ के गेंदबाज बन गए।

जडेजा ने 5 अक्टूबर 2018 को एक और उपलब्धि हासिल की जब उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला शतक बनाया। उन्होंने एकदिवसीय मैचों में अपने प्रभावशाली फॉर्म को जारी रखा और मार्च 2019 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे के दौरान प्रारूप में 2,000 रन बनाने और 150 विकेट लेने वाले तीसरे भारतीय क्रिकेटर बने। इसके बाद, उन्हें 2019 Cricket World Cup के लिए भारत की टीम में शामिल किया गया।

अक्टूबर 2019 में, दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट के दौरान जडेजा ने टेस्ट क्रिकेट में 200 विकेट पूरे किए। उसके बाद उन्हें सितंबर 2021 में 2021 ICC Men’s T20 World Cup के लिए भारत की टीम में चुना गया, जहां उन्हें अपने स्पिन-गेंदबाजी साथी, आर अश्विन के साथ फिर से जोड़ा गया, जो 4 साल के अंतराल के बाद व्हाइट-बॉल टीम में लौटे थे।

Ravindra Jadeja in Test-

5 मार्च 2022 को, जडेजा ने श्रीलंका के खिलाफ एक टेस्ट मैच में 175* रन बनाकर कपिल देव द्वारा बनाए गए 35 साल पुराने रिकॉर्ड को तोड़ दिया। उन्होंने दो पारियों में 5/41 और 4/46 भी लिए, 9/87 के मैच के आंकड़ों के साथ भारत को एक पारी और 222 रनों से शानदार जीत हासिल करने में मदद की। उनकी इस शानदार performance ने उन्हें टेस्ट क्रिकेट में नंबर 7 या उससे निचले क्रम में batting करके highest score बनाने का रिकॉर्ड भी बनाया।

जडेजा को 2022 ICC Men’s T20 World Cup के लिए भारत की टीम में शामिल किया गया था। हालांकि, वह घुटने की गंभीर चोट के कारण टीम से बाहर हो गए। पांच महीने की रिकवरी के बाद, वह 9 फरवरी को नागपुर में Border-Gavaskar Trophy के लिए टेस्ट टीम में लौट आए। जडेजा ने टेस्ट में सबसे तेज 250 विकेट लेने और 2500 रन बनाने वाले भारतीय होने का गौरव भी हासिल किया।

Ravindra Jadeja IPL career –

2008 में, रवींद्र जडेजा को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पहले सीज़न के लिए राजस्थान रॉयल्स द्वारा चुना गया था, और उन्होंने उनकी जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई (रॉयल्स ने फाइनल में चेन्नई सुपर किंग्स को हराया)। 14 मैचों में, जडेजा ने 131.06 की स्ट्राइक रेट से 135 रन बनाए, जिसमें किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 36* रहा।

उन्होंने 2009 में और भी बेहतर प्रदर्शन किया, 110.90 की स्ट्राइक रेट से 295 रन बनाए और 6.5 रन प्रति ओवर की दर से रन दिए। 2010 में, रवींद्र जडेजा को contractual irregularities के कारण आईपीएल से प्रतिबंधित कर दिया गया था, लेकिन 2011 में उन्हें कोच्चि टस्कर्स केरल ने 950,000 डॉलर में खरीदा था।

2012 की आईपीएल खिलाड़ी नीलामी में जडेजा को चेन्नई सुपर किंग्स ने $2 मिलियन में खरीदा, जिससे वह उस वर्ष के सबसे महंगे खिलाड़ी बन गए। जडेजा को 2022 आईपीएल सीज़न के लिए चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान के रूप में नियुक्त किया गया था, लेकिन बाद में चोट के कारण सीज़न के बीच में ही उन्होंने कप्तानी छोड़ दी।

Awards and achievements –

  1. रविंद्र जडेजा को ICC की ODI Team of the Year: 2013, 2016 में शामिल किया गया था।
  2. 2008-09, की रणजी ट्रॉफी के दौरान जडेजा सबसे ज्यादा wicket लेने वाले bowler थे जिसके लिए उन्हें Madhavrao Scindia Award for most wickets दिया गया।
  3. साल 2021, में रविंदर जडेजा ICC की Top 10 Test All-rounder की list में No. 1 बने।
  4. 2019 में उन्हें Arjun Awards से सम्मानित किया गया।

आई होप आपको Ravindra Jadeja Biography in Hindi पसंद आयी हो ऐसी ही और भी सफल लोगों की जीवन कहानियां पढ़ने के लिए इस ब्लॉग से जुड़े रहें।

Leave a Comment