शब्दों की ताकत (power of words) – Real life inspirational story in hindi

Inspirational story in hindi- समझदार लोग अक्सर ये बात जरूर कहते हैं की जब भी कुछ बोलो तो अपने शब्दों को तोल-मोल के बोलो यानि की कब, कहाँ क्या और कैसे बोलना है उसका एक सही हिसाब रखो। हम जो भी बात दूसरों से कहते हैं या जो भी शब्द दूसरों को बोलते हैं उनका असर किसी ना किसी तरह से उनकी और हमारी जिंदगी में जरूर पड़ता है।

जिस तरह किसी को गाली देने से लड़ाई हो जाती है तो किसी से प्यार से बात करने पर दोस्ती हो जाती है। दोस्तों हमारे शब्दों में बहुत ताकत होती है और सामने वाले पर उसका असर भी काफी गहरा पड़ता है। जिस तरह एक motivational speaker अपनी बातों के दम पर लोगों की जिंदगी बदल देता है उसी तरह हमारे शब्द भी किसी की जिंदगी को बदलने या फिर बिगाड़ने की ताकत रखते हैं। 

आज की इस real life motivational story को पड़ने के बाद आप इस बात को बखूबी समझ जाएंगे की किस तरह किसी की बोली हुई बातों से भी जिंदगी बदल जाती है। ये short inspirational story आपके लाइफ में हमेशा positive रहने की प्रेरणा देगी क्यूंकि एक positive सोच वाला व्यक्ति ही हमेशा positive और प्रेरणादायक बातें कर सकता है। इस मोटिवेशनल कहानी से आप शब्दों की असली ताकत को पहचानेंगे।

शब्दों की ताकत (power of words) – Real life inspirational story in hindi

किसी ने क्या खूब लिखा है..
“जो खो गया, उसके लिए रोया नहीं करते; जो पा लिया, उसे खोया नहीं करते;
सितारे भी चमकते हैं उन्ही के; जो मज़बूरियों का रोना, रोया नहीं करते।”

–Motivational Shayari
prernadayak kahani hindi,hindi inspirational story,real life inspirational story in hindi,best story inspirational
Real life inspirational story in hindi

एक बार एक छोटा बच्चा स्कूल से दौड़ता हुवा आया और सीधा अपनी माँ के पास गया। माँ के पास पहुंचकर उसने अपने स्कूल बैग में से एक लेटर (letter) निकाला और अपनी माँ को वो लेटर (letter) देते हुवे बोला, “ये मेरी टीचर ने सिर्फ आपको देने  को कहा है, आप इसे पढ़कर मुझे भी बताओ की इसमें क्या लिखा हुवा है।” उसकी माँ ने वो लेटर (letter) खोला और पड़ा तो वो थोड़ा उदास सी हो गयी।

अपनी माँ को उदास देख उस बच्चे ने पूछा की, “माँ, उस पर क्या लिखा हुवा है..?”

उसकी माँ मुस्कुरायी और बोली बेटा, आपकी टीचर ने लिखा है की, “आपका बेटा बहुत ही intelligent है, और उसे पढ़ाने के लिए हमारे स्कूल में अच्छे टीचर नहीं हैं तो कल से आप अपने बच्चे को घर पर ही पढायें और इसे स्कूल ना भेजें।”

उस माँ ने अपने बच्चे को घर पर ही पढ़ाना शुरू कर दिया और बड़ा होकर वो बच्चा एक बहुत ही genius और एक सफल inventor बना। 

एक दिन अपने घर की सफाई करते हुवे उस लड़के को अपने पुराने सामान में उस टीचर का दिया हुवा लेटर (letter) मिला। उसने वो लेटर पड़ा तो वो हैरान हो गया क्यूंकि उस पर लिखा था, “आपका बच्चा मानसिक रूप से बीमार है और ये पढ़ाई में बहुत कमजोर है, अब हम इसे अपने स्कूल में नहीं पड़ा सकते….बेहतर होगा की आप इसे घर पर ही पढायें।”

उस बच्चे की आँखों में आंसू आ गए और वो ये सोचने लगा की किस तरह उसकी माँ के शब्दों ने उसकी जिंदगी को बदल दिया।

दोस्तों ये सच्ची कहानी है Thomas Alva Edison की। जिन्होंने 1000 बार fail होने के बावजूद भी लाइट बल्ब का अविष्कार किया। एडिसन ने लाइट बल्ब के अलावा और भी बहुत से अविष्कार किये। जिनकी वजह से वह अपने टाइम के सबसे सफल inventor बने।

एडिसन का मन पढ़ाई में बहुत काम लगता था जिसकी वजह से उन स्कूल से निकाल दिया गया था, लेकिन उनकी माँ की दी गयी शिक्षा के कारण वो जिज्ञासु बने और लाइफ में सफल हो सके।

सीख जो हमें इस मोटिवेशनल स्टोरी से मिलती है-

ये छोटी सी प्रेरणादायक कहानी हमे ये बात सिखाती है की लोगों द्वारा कही गयी बातों में बहुत power होती है। जिस तरह हमारी बातें किसी का हौंसला बना सकती हैं, उसी तरह किसी का हौंसला तोड़ भी सकते हैं। अक्सर लोग वही काम करते हैं जो वो सुनते हैं, बोलते हैं और समझते हैं।

अच्छी बातें सुनने वाला व्यक्ति हमेशा अच्छे काम करता है और दूसरों को भी वही सलाह देता है। उसी तरह गलत बातें सुनने वाला व्यक्ति गलत काम करता है और दूसरों को भी वैसी ही सलाह देता है। हम जिस तरह के लोगों की बातें सुनते हैं हमारा मन भी उसी तरह जाने लगता है।

अपनी माँ की बातों की वजह से ही एडिसन को खुद पर विश्वास आया, उन्हें बचपन से ही ये लगने लगा की वो कोई loser नहीं बल्कि एक winner है। अगर एडिसन की माँ उस दिन उसे सच बता देती तो शायद बचपन में ही एडिसन का विश्वास खुद पर से उठ जाता और वो शायद कभी सफल नहीं बन पाते। अपनी teacher की बातें अगर वो पढ़ लेते तो वो खुद को हमेशा loser ही समझते।

हमें खुद को और दूसरों को हमेसा अच्छी बातें की बोलनी चाहिए और हमेशा उन्हें अपनी बातों के जरिये प्रेरणा देनी चाहिए, जिससे वो आगे बढ़ सकें, कुछ achieve कर सकें और खुद पर विश्वास कर सकें। अच्छी सोच और अच्छी बातें इंसान को हमेसा लाइफ में आगे रखती हैं। अच्छा बोलें, अच्छा सुने और हमेसा एक पॉजिटिव सोच रखें। इस दुनिया में नामुमकिन जैसा कुछ भी नहीं है, हम जो सोच सकते हैं उसे कर भी सकते हैं हमे बस खुद पर विश्वास होना चाहिए। खुद के बारे में भी कभी नेगेटिव बातें ना करें।

सो फ्रेंड्स, आपको ये real life inspirational story in hindi कैसी लगी हमे comment section में जरूर बताएं। ऐसी ही और भी प्रेरणादायक कहानियां, प्रेरणादायक स्पीचेस पड़ने के लिए इस पेज से जुड़ें रहें। इस इंस्पिरेशनल स्टोरी को शेयर करना ना भूलें।

2 thoughts on “शब्दों की ताकत (power of words) – Real life inspirational story in hindi”

Leave a Comment