इच्छाओं का कोई अंत नहीं – new short motivational story

इच्छाएं जिनका कभी कोई अंत नहीं होता। इंसान के रूप में हम सब में एक कमी ये भी है की हम कभी भी दूसरों से और अपने आप से कभी सतुष्ट ही नहीं हो पाता। हमारी इच्छाएं ही होती हैं जो हमे हमेशा बैचैन रखती हैं और हम हमेशा दूसरों से अपेक्षा रखते हैं की वो हमारे लिए और करें।

ज्यादा के चक्कर में हम दूसरों के कामों से कभी संतुष्ट ही नहीं होते। हमे हमेशा ये लगता है की दूसरा व्यक्ति काम effort कर रहा है और वो उस तरह से काम नहीं कर रहा जैसी हमारी इच्छा है।  

आज की शार्ट मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी इंसान की  इच्छाओं पर ही आधारित है। इस motivation story hindi से आप ये बात जानेंगे की किस तरह हम दूसरों से कभी भी संतुष्ट नहीं हो पाते हैं। इस best motivational short story के जरिये आप ये भी जानेगे की अपनी इच्छाओं की वजह से हम किस तरह दुसरों को नुक्सान पहुंचाते हैं। 

Story: Shopkeeper & The Dog – A short motivational story with a moral message.

एक बार की बात है। देर रात का वक्त था और एक दुकानदार अपनी दूकान बंद ही कर रहा था की उसी वक़्त एक कुत्ता उसकी दूकान के अंदर आया। उसके मुँह में एक थैली लटकी थी, जिसमें सामान की लिस्ट और साथ ही पैसे भी रखे थे। दुकानदार ने लिस्ट देखी और सारा सामान निकाल दिया और फिर दुकानदार ने पैसे लेकर सामान उसकी थैली में भर दिया। उस कुत्ते ने थैली को मुँह से उठाया और वहां से चला गया। 

दुकानदार ये सब देख कर काफी हैरान हो गया। उस दुकानदार ने जल्दी से अपनी दूकान बंद करी और उस कुत्ते के पीछे-पीछे जाने लगा, ये देखने की इतने समझदार कुत्ते का आखिर मालिक कौन है। कुत्ता जाकर बस स्टॉप पर खड़ा हो गया।

थोड़ी देर बाद एक बस आयी और उस स्टॉप पर रुकी, बस का दरवाजा खुलते ही वो कुत्ता बस में चढ़ गया। फिर कंडक्टर के पास जाकर उसने अपनी गर्दन आगे कर दी। उसके गले की बेल्ट में बस का किराया और उसके मालिक का address भी था। 

कंडक्टर ने पैसे लेकर टिकट उसकी बेल्ट में ही रख दिया, अपना स्टॉप आते ही कुत्ता आगे के दरवाजे पर चला गया और पूंछ हिलाकर कंडक्टर को बस रोकने का इशारा कर दिया। बस के रुकते ही वह कुत्ता उतर कर अपने घर की तरफ चला गया…… दुकानदार भी उसके पीछे-पीछे ही था। 

You May Also Like- Six short stories in hindiSecret of Success (Buddha Motivation)Motivational story on luck

घर का दरवाजा बंद था तो कुत्ते ने दरवाजा अपने पैरों से दो-तीन बार खट-खटाया। तभी अंदर से उसका मालिक आया और उसने अपने कुत्ते की खूब पिटाई कर दी। 

वो दुकानदार दूर से ये सब देख रहा था। वो दौड़ कर आया और बोला, “आप का कुत्ता इतना समझदार है फिर भी आप इसे मार रहे हैं…”!

तो वो मालिक बोला, “इसने मेरी नींद ख़राब कर दी। ये घर की चाभी अपने साथ भी तो लेकर जा सकता था….”?

सीख जो हमे इस मोटिवेशनल कहानी से मिलती है:

दोस्तों जीवन की भी यही सच्चाई है लोगों की इच्छाओं का कोई अंत नहीं है। जहाँ पर भी आप गलती करते हैं, वही पर लोग आपकी बुराई निकल देते हैं और आपकी पिछली सारी अच्छाईओं को भूल जाते हैं। इस दुनिया में कुछ लोग ऐसे होते हैं जो दूसरे के कामों से कभी खुश नहीं होते और ना ही कभी संतुष्ट होते हैं। फिर चाहे कोई व्यक्ति उनके लिए कितना ही अच्छा को ना करे। जो लोग अपनी life से परेशान रहते हैं अक्सर वही लोग खुद को किसी भी चीज़ से संतुष्ट नहीं कर पाते। 

हर व्यक्ति को अपने और दूसरों के कामों से हमेसा satisfy रहना चाहिए। अगर कोई काम गलत भी हो जाये तो उसपे बहस करने की बजायी उसे सुधारने की कोशिश करनी चाहिए। और साथ ही हमे अपनी इच्छाओं पर भी control रखना चाहिए। दूसरे जितना कर सकते हैं हमे उसमे खुद को संतुष्ट रखना सीखना जरूरी है। 

हमे हमेसा life में अच्छे काम करने चाहिए, वो लोग जो दूसरों की help करते हैं, उनके लिए कुछ अच्छा करते हैं, बेवजह लोगों से बहस नहीं करते हैं, वो अक्सर अपनी life में खुश और satisfy रहते हैं, इसलिए आप अपने अच्छे काम करते चलो कुछ लोग आपसे कभी संतुष्ट होंगे ही नहीं। 

Hindi motivational story video

अगर ये short story in hindi motivational आपको पसंद आयी हो तो हमारे ब्लॉग को फॉलो जरूर करें , इस motivational story को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। इस prernadayak kahani को लेकर आपका कोई भी View हो तो कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं। मोटिवेशनल वीडियोस देखने के लिए हमे यूट्यूब में सब्सक्राइब जरूर करें।  

Leave a Comment