Best Inspirational story on Patience in Hindi – Marshmallow Theory

Patience यानि की सब्र या धैर्य। हमारी जिंदगी में Patience का होना बहुत जरूरी है, ये बात तो आपने सुनी ही है कि इंतजार का फल मीठा होता है लेकिन आज के समय में इंतजार कोई करना नहीं चाहता. हर किसी को हर चीज तुरंत चाहिए. इंतजार करने तक का Patience किसी के पास नहीं है. हम चाहते हैं की जो मिलना है बस अभी मिल जाए, बाद की किसको पड़ी है। हमारी इस जल्दी बाजी या फिर उत्सुकता का कारण है हमारा lack of patience. जिस व्यक्ति के अंदर सब्र (Patience) नहीं होता वह किसी एक चीज पर टिककर नहीं रह पाता।

वह एक काम शुरू करता है और अगर उस काम में उसे सफल होने में टाइम लगता है, तो वह दूसरा काम शुरू कर देता है। इसी तरह lack of patience के चलते वो नई-नई चीजें करता जाता है और वही अटक कर रह जाता है, जहां से उसने शुरू किया था. Patience कोई जन्म से मिलने वाली quality नहीं है यह हमें सीखना पड़ता है, और खुद को यह विश्वास दिलाना पड़ता है कि कुछ चीजों का इंतजार करने में ही भलाई है और उन चीजों का इंतजार हम अपने धैर्य और सब्र के साथ ही कर सकते हैं।

आज की इंस्पिरेशनल स्टोरी ऑन पेशेंस, Walter Mischel की Marshmallow Theory पर आधारित है। यह Theory 1972 में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के साइकोलॉजी के प्रोफेसर Walter Mischel ने दी है। यह short story of Patience कुछ बच्चों पर किए गए experiment के बारे में है। Walter Mischel ने बच्चों पर किए एक छोटे से experiment के बाद बताया कि किस तरह patience किसी इंसान की सफलता और असफलता का कारण बन सकता है। तो चलिए इस मार्शमैलो थ्योरी के बारे में इस inspirational story के जरिए जानते हैं।

inspirational story on patience, marshmallow theory motivation, hindi story on patience

Inspirational story on Patience – Marshmallow Theory

एक दिन Walter Mischel अपनी class में आए और सभी बच्चों को एक एक टॉफी खाने को दी। उस टॉफी का नाम मार्शमैलो था। टॉफी देने के बाद Walter Mischel ने उन सभी बच्चों से कहा कि, मैंने आप सभी को जो टॉफी दी है उसे 15 मिनट तक आपको खाना नहीं है। इसे बस आप अपने पास रखिए। ऐसा कहकर वह उठे और अपनी क्लास से बाहर चले गए. उनके जाते ही क्लास में शांति सी छा गई। हर कोई बच्चा अपनी अपनी टॉफी को देख रहा था।

उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि टीचर ने उन्हें टॉफी दे तो दी लेकिन खाने से मना क्यों कर दिया। बच्चों के लिए खुद को रोक पाना बहुत मुश्किल हो रहा था। हर किसी के मन में उस टॉफी को खाने की इच्छा हो रही थी। ऐसा करते करते 15 मिनट निकल गए और फिर Walter Mischel वापस अपनी क्लास मैं आ गए। क्लास में आते ही उन्होंने सब बच्चों से पूछा कि किस-किस ने अपनी टॉफी अब तक नहीं खाई है। पूरी क्लास में सिर्फ 7 बच्चे ऐसे थे जिन्होंने अपनी Toffy को नहीं खाया था।

उनके अलावा सब बच्चे अपनी अपनी मार्शमैलो टॉफी खा चुके थे और उस टॉफी के स्वाद और रंग की बातें अपने टीचर को बता रहे थे। Walter Mischel ने उन सात बच्चों से उनके नाम पूछे और अपनी एक डायरी में लिख लिए और उन्हें भी उनकी मार्शमैलो टॉफी खा लेने को कहा। इसके बाद उन्होंने रोज की तरह अपने क्लास को पढ़ाना शुरू कर दिया। कुछ सालों बाद Walter Mischel ने अपनी उस डायरी को खोला और उन सातों बच्चों के नाम निकाले और उनके बारे में पता करने लगे। वह जानना चाहते थे कि वह सातों बच्चे जीवन के किस मोड़ पर हैं और क्या करते हैं।

उन्होंने सबके बारे में पता किया और सब के बारे में एक चीज common थी कि वह सातों बच्चे अपनी अपनी field के सबसे सफल लोगों में शामिल थे और फिर उसके बाद Walter Mischel ने अपनी उसी क्लास के बाकी और बच्चों के बारे में जानकारी निकाली जिन्हें उन्होंने Marshmallow Toffy खाने को दी थी. उनके बारे में पता करने के बाद उन्हें यह जानकारी मिली कि बाकी के ज्यादातर बच्चे एक साधारण सी जिंदगी जी रहे हैं और उनमें से कुछ ऐसे हैं जिनकी आर्थिक और सामाजिक परिस्थितियां हद से ज्यादा खराब है।

इस पूरे experiment के बाद Walter Mischel ने इसे इस बात से समझाया कि, ‘जो इंसान जिंदगी में केवल 15 मिनट का Patience भी नहीं रख सकता वह जीवन में ना ही कभी आगे बढ़ सकता है और ना ही ज्यादा सफल हो सकता है।’
Walter Mischel के इस experiment के बाद दुनिया भर में उनके काफी तारीफ हुई और उनके इस एक्सपेरिमेंट को Marshmallow Theory नाम दिया गया क्योंकि बच्चों को दी गई टॉफी भी मार्शमैलो ही थी।

Marsh Mellow theory से मिलने वाली प्रेरणादायक सीख-

Walter Mischel की इस theory के अनुसार दुनिया में जितने भी सफल लोग अब तक हुवे हैं उनमें धैर्य का गुण अवश्य पाया जाता है, क्यूंकि यह गुण इंसान के अंदर किसी चीज को सहने की ताकत देती है, उस ताकत के भरोसे ही इंसान कठिन परिस्थितयों में भी हार नहीं मानता और सफल होने की लगातार कोशिश करता है। जितने भी सफल लोगों की कहानियां आपने पड़ी होंगी उनमें से अधिकतर लोगों में एक चीज़ common होगी की जिस काम की शुरुवात उन्होंने शुरू से करी उसी में उन्होंने सफलता पायी।

ऐसे लोग आपको बहुत कम मिलेंगे जो साल दर साल कुछ ना कुछ अलग करते रहे और जो भी वो करते गए उसमे उन्हें सफलता मिलते गयी। इंसान कई सारी चीज़ें करके शायद ही कभी जल्दी सफल हो पाए, सफल होने के लिए जरूरी है की आप एक काम पर focus करें उसे ही करते रहें और patience के साथ उसे करते रहें। results आपको भले ही जल्दी न मिले लेकिन अगर आप उस काम को करना ही छोड़ देंगे और किसी और चीज़ में लग जाएंगे तो ऐसे आपको शिवाय निराशा के कुछ नहीं मिलेगा।


patience के साथ एक काम मे लगे रहें और जब तक आपके अंदर ये उम्मीद रहेगी की ‘हाँ, जो मै कर रहा हूँ उससे मुझे future में जरूर फ़ायदा मिलेगा’ इस उम्मीद से आपके अंदर सब्र करने की शक्ति बढ़ेगी और भविष्य में उस काम से आपको फायदा भी मिलेगा और सफलता भी।Patience सबको रखना पड़ता है। कोई भी किसी लक्ष्य तक सीधे नहीं पहुंच जाता है।

जिस तरह एक student एक क्लास को पास करता हुवा, दूसरी क्लास में पहुँचता है फिर दूसरी से तीसरी, और फिर कुछ सालों बाद वह college जाता है और फिर जाके वो नौकरी तक पहुंच पाता है। इसी तरह किसी काम में सफल होने के लिए भी आपको time लगता है और गुजरते हुवे टाइम को सहने का धैर्य ही आपको आगे बढ़ाता है। जिस इंसान के अंदर सब्र की कमी होती है वो अंदर से कमजोर होता है। बहादुर वही है जिसमे patience है और जो जानता है की सब्र का फल मीठा होता है।

सब्र पर पांच अनमोल विचार (5 Best Motivational Quotes on Patience) –

1- सब्र एक ऐसी सवारी है जो अपने सवार को कभी गिरने नहीं देती ना किसी के क़दमों में ना किसी के नज़रों में।

2- जिन्दगी दो दिन की है. एक दिन आप के हक़ में, एक दिन आप के खिलाफ। जिस दिन हक़ में हो तो गुरूर मत करना और जिस दिन खिलाफ हो तो थोड़ा सा सब्र जरूर करना.


3- सब्र रखिए, आसान बनने से पहले हर चीज़ कठिन होती है.

4- माली किसी पेड़ को चाहे कितना भी पानी दे लेकिन फल तो मौसम आने पर ही लगेगा, इसलिए धैर्य होना बहुत जरूरी हैं।

5- सब्र के सामने भयंकर संकट भी धुएं के बादल की तरह उड़ जाते हैं।समस्या के समय सब्र रखना मानो आधी समस्या पर काबू पा लिया हैं।

आई होप की आपके ये Inspirational story on patience से कुछ सीखने को मिला हो, इस कहानी से मिलने वाली सीख को जिंदगी में जरूर अपनाएँ। ऐसी और भी प्रेरणादायक कहानियां पढ़ने के लिए इस ब्लॉग से जुड़ें रहें। इस स्टोरी को शेयर जरूर करें।

Leave a Comment