How Dream Becomes Reality – APJ Abdul Kalam Motivation on Dreams (Hindi)

जब भी सफल लोगों की बात करी जाती है तो एपीजे अब्दुल कलाम का नाम हर किसी की जुबान में आता ही है। एपीजे अब्दुल कलाम ने अपनी जिंदगी में कई सारी कठिनाइयों का सामने करके सफलता के शिखर को छूआ।

8 साल की छोटी सी उम्र में उन्होंने अखबार बेचकर अपनी पढ़ाई और घर का खर्च चलाने में मदद करी। उनके परिवार में कोई भी पढ़ा लिखा नही था, पढ़ाई को लेकर कलाम कभी पीछे नहीं हटे, वो जिन अखबारों को बेचा करते थे उन्हें खुद भी पढ़ते थे।

एपीजे अब्दुल कलाम की जिंदगी की कहानी हम सभी के लिए प्रेरणा की पाठशाला है। जिससे हम बहुत कुछ सीख सकते हैं। अपनी मेहनत के दम पर वो एक महान वैज्ञानिक, रक्षामंत्री और देश के राष्ट्रपति भी बने। मिसाइल और परमाणु विज्ञान के क्षेत्र में उनका अहम योगदान है। आज हम सभी उन्हें मिसाइल मैन के नाम भी से जानते है।

वैसे तो अब्दुल कलाम सर का पूरा जीवन ही हमारे लिए बहुत बड़ी सीख है, उनके बारे में जितना लिखा जाए उतना कम है। लेकिन आज हम उनकी जिंदगी के बारे में नही बल्कि उनके सपने के बारे में आपको बताने वाले हैं। जैसे हम सभी का कोई ना कोई सपना होता है और उसे पाने के लिए हम दिन रात कुछ ना कुछ करते रहते हैं।

इसी तरह एक सपना 23 साल की उम्र में Dr. APJ Abdul Kalam ने भी देखा था लेकिन वो पूरा कैसे हूवा यही आज के इस पोस्ट की सबसे बड़ी Motivation है।

how dream becomes reality in hindi, apne sapno ko pura kaise karen, sapne kaise pure karne motivation,

How Dream Becomes Reality – APJ Abdul Kalam Motivation

एक बार एक इंटरव्यू के दौरान एपीजे अब्दुल कलाम ने बताया, “जब मैं 23 साल का था तो मैंने एक सपना देखा की मैं एक दिन पायलट बनूंगा। इसके बाद उस सपने को पूरा करने के लिए मैने एरोनॉटिकल इंजिनियरिंग की पढ़ाई शुरू करी।

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद में Air Force में गया लेकिन उन्होंने मुझे select नहीं किया। उनके पास 9 सीटें थी और 10 selected लोगों में एक में ही था जिसका Selection नहीं हो पाया और मैं हार गया।

लेकिन जब मैं राष्ट्रपति बना तो मैं सेनाओं का supreme commander भी बना और तब मैने Air Staff के चीफ को बताया की, “मैं flying सीखना चाहता हूं।”

उन्होंने कहा, “मैं आपको इसके लिए पहले training दूंगा।”

उन्होंने मुझे 6 महीने तक ट्रेनिंग दी और फिर मैने Sukhoi-30MKI उड़ाया।”

इस कहानी का message है, “Dreams Transform into thoughts and thoughts results into action.” (सपने, विचारों में बदल जाते हैं और विचार, कार्य के रूप में परिणाम देते हैं।)

डॉ एपीजे अब्दुल काम की ये बात हमे इस बात की प्रेरणा देती है की सपने तब पूरे होते हैं जब वो आपके विचार बन जाते हैं। हम हर रात कुछ बनने के सपने देखते हैं और सुबह होते ही वो सपने नींद खुलते ही गायब हो जाते है। हर दिन के साथ हमारे सपने भी बदलते जाते हैं और अंत में वो अधूरे ही रह जाते हैं।

जिंदगी में कुछ बनने का एक सपना रखो और उस सपने को हमेशा अपने विचारों में बनाए रखो। खुद को हमेशा ये याद दिलाते रहो की, “मुझे ये बनना है या ये करना है।” सपना हमेशा बड़ा देखें। जब हम बड़े सपने देखते हैं, तो हम अपने दिमाग को सक्रिय कर देते हैं, और हमारे दिमाग में ये विचार आने लगते हैं की कैसे हम अपने सपने को साकार कर सकते हैं।

जैसे जैसे विचार आते रहते हैं, मन में योजनाएं बनने लगती हैं, नए नए ideas आने लगते हैं, उन योजनाओं के अनुसार हम कार्रवाई कर सकते हैं और हमारे सपनों को एक दिशा मिल जाती है। जब आपका सपना आपके विचारों में रहेगा तभी आपको परिणाम मिल पाएंगे। वरना आप बस सपने ही देखते रह जाएंगे।

डॉ. कलाम सपनों की शक्ति में बहुत विश्वास रखते थे। वह अक्सर युवाओं को बड़े सपने देखने और अपनी आकांक्षाओं को कभी ना छोड़ने के लिए Encourage करते थे। उनका मानना ​​था कि अगर हम ठान लें तो कुछ भी संभव है।

उन्होंने जो सपना 23 साल की उम्र में देखा था वो पूरा हुवा 74 साल की उम्र में और उस सपने को पूरा होने में 52 साल लग गए। लेकिन इतने सालों में कभी वो अपने सपने को नही भूले और 74 साल की उम्र में उन्होंने पायलट के रूप में पहली बार फाइटर प्लेन उड़ाया। एक हम हैं जो रात को सपना देखते हैं और सोचते हैं की सुबह उठते ही वो पूरा हो जाएगा।

ऐसे सपने सिर्फ फिल्मों में पूरे होते हैं। असल जिंदगी में मेहनत और टाइम दोनो लगते हैं। जो लोग अपने सपनो को पूरा करने की चाह रखते हैं वो एक ना एक दिन उन्हें हासिल कर ही लेते हैं। सपने देखना कोई बुरी बात नहीं है लेकिन उन सपनो को पूरा करना भी जरूरी है। ऐसा नहीं है की आपको अपना हर सपना पूरा ही करना है.

कुछ सपने ऐसे होते हैं जिन्हें देखकर मन खुश हो जाता है लेकिन एक या दो सपने हर किसी के ऐसे जरूर होते हैं जिन्हें पूरा करना उनकी मजबूरी और चुनौती दोनो होती है। इसलिए अपने सपनो के पीछे लगे रहो, उन्हें अपने विचारों में लाओ, जो चीज करनी है वो किसी भी हाल में करनी है। सपने पूरे जरूर होंगे बस कभी give up मत करना। जब तक सांसे चलती रहेंगी, तब तक कोशिश जारी रखना। यही जिंदगी है।

आशा करता हुं की APJ Abdul Kalam Motivation on Dreams आपके काम आए और ये बातें आपको जिंदगी कुछ बड़ा करने की राह दिखाएं। ऐसी ही मोटिवेशनल पोस्ट्स पढ़ने के लिए इस ब्लॉग को फॉलो जरूर करें। मोटिवेशनल विडियोज देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करना ना भूलें।

Leave a Comment