Some Of The Best Short Motivational Stories in Hindi

Short Motivational Stories in Hindi – ये आठ short stories आपको कम समय में जीवन का बहुमूल्य पाठ देंगी, इसलिए अवश्य पढ़ें और अपने दोस्तों के साथ Share करें. इन हिंदी कहानियों में आपको आपकी सफलता और जिंदगी से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सबक मिलेंगे।

1- दुनिया सिर्फ तमाशा देखती है – short hindi inspirational story

एक बार घर में आग लग गयी और सभी लोग उस आग को बुझाने में लगे। उस घर में एक चिड़िया का घोंसला भी था तो वो चिड़ियाँ भी अपनी चोंच में पानी भरती रही और आग में डालती रही। वो बार बार जाकर पानी लाती और आग में डालती।

एक कौआ ये देख रहा था और वो चिड़िया से बोला, “अरे पगली तू कितनी भी मेहनत कर ले तेरे बुझाने से ये आग नही बुझेगी।” तो उस पर चिड़ियाँ बोली, “मुझे पता है, मेरे बुझाने से आग नही बुझेगी लेकिन जब भी इस आग का जिक्र होगा, तो मेरी गिनती बुझाने वालों में होगी और तेरी गिनती तमाशा देखने वालों में।”

हमारी जिंदगी में भी ऐसे बहुत से लोग होते हैं जो हमारी मेहनत नहीं बल्कि हमारे हारने का तमाशा देखना ज्यादा पसंद करते हैं। ऐसे लोगों को पहचानना ज्यादा मुश्किल नहीं है ये वही लोग होते हैं जो आपको बात बात पर ताना मारते हैं। ये लोग आपको हमेसा discourage करते रहते हैं, इसलिए ऐसे लोगों से खुद को हमेशा दूर रखना और याद रखें की आप अकेले ही बहुत कुछ कर सकते हैं, बस खुद पर विश्वास जरूरी है।

2- एक फ़कीर की सीख – short motivational story in hindi with moral

एक फ़कीर नदी के किनारे बैठा था। एक व्यक्ति पास से गुजरा तो उसने पूछा बाबा क्या कर रहे हो?
फ़कीर ने कहा इंतज़ार कर रहा हूँ की पूरी नदी सूख जाए तो में इसे पार कर लूँ।
उस व्यक्ति ने कहा कैसी बात करते हो बाबा, “पूरा पानी सूखने के इंतज़ार मे तो तुम कभी नदी पार ही नही कर पाओगे..?”

तो उस फ़कीर ने कहा, “यही तो मै लोगो को समझाना चाहता हूँ की तुम लोग जो सदा यह कहते रहते हो की एक बार जीवन की सारी ज़िम्मेदारियाँ पूरी हो जाये तो मैं खुश रहूं, मौज करूं, घूमूँ फिरू, सबसे मिलूँ, लोगों की सेवा करूँ, इसी तरह नदी का पानी कभी खत्म नही होगा और हमको नदी से ही पार जाने का रास्ता बनाना है,

एक ना एक दिन हमारा जीवन खत्म हो जायेगा पर ये जिम्मेदारियां कभी खत्म नहीं होंगी। हमें अपने जीवन की इन्हीं जिम्मेदारियों को अपने साथ लेकर वो हर काम करना होगा जो हमे खुशियां दे। हमें अपनी जिम्मेदारियों के बोझ को कभी इतना नहीं बढ़ाना चाहिए की जीवन में सिर्फ दुःख रह जाए।”

3- पैरों के निशान – short hindi story

एक बार एक केकड़ा समुद्र किनारे अपनी मस्ती में चला जा रहा था और बीच बीच में पीछे मुड़कर वो अपने पैरों से बने निशान भी देखता जाता। वो थोड़ा आगे बढ़ता और फिर मुड़कर पैरों के निशान देखता और उनसे बनी design को देखकर खुश हो जाता…इतने में एक तेज लहर आयी और उसके पैरों के सब निशान मिट गये।

इस पर केकड़े को बड़ा गुस्सा आया, उसने लहर से बोला, “मैं तो तुझे अपना मित्र मानता था, पर तुमने ये क्या किया…मेरे बनाये सुंदर पैरों के निशानों को ही मिटा दिया…? कैसी दोस्त हो तुम।”

केकड़े की बात सुनकर लहर बोली, ” वो देखो पीछे से मछुआरे आ रहे हैं और वो पैरों के निशान देख कर ही केकड़ों को पकड़ रहे हैं…मेरे दोस्त, तुमको वो पकड़ ना लें, बस इसीलिए मैंने तुम्हारे पैरों के निशान मिटा दिए।”

सच यही है की कई बार हम सामने वाले की बातों को समझ नहीं पाते और अपनी सोच के अनुसार उसे गलत समझ लेते हैं, जबकि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं। अपने मन में किसी के लिए बुरा भला सोचने से बेहतर है कि बातों को सही से समझ कर निष्कर्ष निकालें।

(Also Read- जिंदगी बदलने वाली 5 प्रेरणादायक हिंदी कहानियां, खूबसूरती का घमंड motivational story, Secret of Success (Buddha Motivation) )

4- ज्ञान, धन और विश्वास – Motivational Kahani

यह कहानी तीन दोस्तों की है। ज्ञान, धन और विश्वास। तीनों बहुत अच्छे दोस्त थे। तीनों में प्यार भी बहुत था। एक बार किसी वजह से तीनों को अलग होना पड़ा तो तीनों ने एक दूसरे से सवाल किया कि आज के बाद हम कहाँ मिलेंगे।

तो इस पर ज्ञान ने कहा – “मैं मंदिर, मस्जिद और किताबों में मिलूँगा”।
धन ने कहा- “मैं अमीरों के पास मिलूंगा”।

विश्वास चुप रहा और कुछ नहीं बोला, “जब दोनों दोस्तों ने उस से चुप रहने का कारण पूछा तो विश्वास ने रोते हुए कहा – “मैं एक बार चला गया तो फिर कभी नहीं मिल पाऊंगा।”

ये छोटी सी कहानी हमे सिखाती है की ज्ञान और धन आप जब चाहे तब प्राप्त कर सकते हैं लेकिन विश्वास एक ऐसी चीज़ है जो एक बार टूट जाए तो फिर उसका वापस आना बहुत मुश्किल है।

5- एक पिता की प्यारी सी बात- short motivational story in hindi

एक बेटे ने अपने पिता से पूछा- “पापा आपने देखा है, जब माँ मुझे अपनी गोद मे उठाती है तो वो मुझे अपनी कमर के पास रखती है, लेकिन जब आप मुझे उठाते हो तो अपने कंधे पर बैठा लेते हो। ऐसा क्यों”?

उसके पिता ने बड़ा ही अच्छा जवाब दिया, “बेटा माँ चाहती है कि उसकी सन्तान की नज़र वहाँ तक जाए जहाँ तक वो स्वयं देख सकती है, जबकि एक पिता चाहता है कि उसकी संतान वहां तक देख सके, जहाँ तक स्वयं उसकी खुद की नज़र नही पहुँच सकती।”

एक पिता हमेशा चाहता है उसकी संतान life उससे भी ज्यादा आगे बड़े और उससे भी ज्यादा नाम कमाए। चाहे माँ हो या पिता, दोनों ही अपनी औलाद को जिंदगी में सफल देखना चाहते हैं।

6- काश तू ऐसा ना होता – hindi story

एक बार एक व्यक्ति ने कोयल से कहा – “तू काली ना होती तो कितनी अच्छी होती।”
गुलाब से कहा- “तुझमे कांटे ना होते तो कितना अच्छा होता।”

समुन्द्र से कहा- “तेरा पानी अगर नमकीन ना होता तो कितना अच्छा होता।”
वो व्यक्ति फिर मंदिर गया भगवान से बोला- “तू मूर्तियों में ना होकर असलियत में होता तो कितना होता।”

इतने में भगवान् बोले- “ऐ मेरे बनाये हुवे इंसान अगर तुझमे दूसरों को देखने की कमियां ना होती तो तू कितना अच्छा होता…”

7- Kadva Sach – very short story in hindi
एक बार एक लड़के ने अपने दादा से पूछा- दादा जी आप लोग पहले कैसे रहते थे? “ना कोई Technology थी, ना ही computer था, ना ही अच्छी गाड़ियां थी और ना ही मोबाइल।”

पोते की बात सुनकर दादा जी ने बहुत सुंदर जवाब दिया- “बेटे हम वैसे ही रहते थे जैसे तुम लोग आजकल रहते हो “ना पूजा, ना पाठ, ना कोई दान, ना ही धर्म और ना ही किसी तरह की शर्म।”
दोस्तों बात कड़वी है मगर है सच।

8- Mauka Kabhi Mat Chhodo – short inspirational story of bill gates
Interview के दौरान एक बार एक महिला पत्रकार ने Bill Gates से पूछा की आप अरबों रुपयों के मालिक हैं। आपकी कामयाबी का राज क्या है?
Bill Gates इन उस बात का answer देने की बजाये उस पत्रकार को एक blank चेक दिया और कहा की तुम्हें जितने पैसे चाहिए इस चेक में भर लो।

उस महिला पत्रकार ने Surprise होकर कहा की ये आप क्या कह रहे हैं, मैने आपसे पैसे नहीं मांगे आप बस मेरे सवाल का जवाब दे और उसने वो चेक वापिस दे दिया।

Bill Gates उस महिला की तरफ देखकर बोले- मेरी कामयाबी का राज़ यही है, “मैं कभी मौके नहीं गंवाता जैसे आज आपने गवा दिया। अगर आप अपनी Philosophy को Side रखती तो आज दुनिया की सबसे अमीर पत्रकार बन गई होती।”

दोस्तों, ऐसे ही कई मौके हम भी अपनी life में ये कहकर छोड़ देते हैं की ये काम हमारे लायक नहीं है, या फिर मैं तो इस काम से ज्यादा का Talent रखता हूँ और यही मौके किसी को सफल बनाते हैं तो किसी को असफल इसलिए सही मौके को कभी भी ना छोड़ें।

Leave a Comment